अमरीका के नए राष्ट्रपति Donald Trump, कैसे दूसरे नेताओं से हैं अलग…

donald-trump news 27 04 2016
रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के 45th प्रेसिडेंट होंगे। ट्रंप की अमेरिका में एक अलग पहचान है। ट्रंप वो नाम है जिसे अमेरिका में और खास तौर से न्यूयॉर्क की रियल एस्टेट दुनिया में स्टेटस से जोड़ कर देखा जाता है। जानकार कहते हैं कि ट्रम्प जिद्दी और हार सहन न करने वाले शख्स हैं। उनकी जिंदगी पर नजर डालें तो काफी हद तक ये सही भी लगता है। ट्रम्प ने पिता ले कर्ज लेकर बिजनेस शुरू किया था। तब से आज तक उन पर उंगलियां जरूर उठीं लेकिन विवादों में रहते हुए आगे बढ़ते रहे। आज यह शख्स अमेरिका की कमान संभालने जा रहा है। आइए जानते हैं ट्रंप की जिंदगी से जुड़े अनसुने किस्से-

  • फॉर्ब्स मैगजीन ने अपनी 2016 की सूची में दुनिया का 324वां और अमेरिका का 156वां अमीर आदमी बताया था
  • उनकी ट्रंप वर्ल्ड टॉवर दुनिया की सबसे ऊंची रिहाइशी बिल्डिंग है, जिसमें 90 मंजिल हैं.
  • अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में वो रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने में कामयाब रहे और उनका मुकाबल हिलेरी क्लिंटन से होगा.
  • NBC रियल्टी शो ‘द अपरेंटिस’ के जरिए वो 30 लाख डॉलर प्रति शो कमाते थे.
  • उनका कहना है, ‘जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए सबसे जरूरी है बड़ा सोचना’.

ट्रंप के किरदार, ट्रंप की कामयाबी, उनके बयान, उनके विवाद और निजी ज़िंदगी के क़िस्से, सब मिलाकर मसालेदार और दिलचस्प कहानी बनते हैं. अमरीका ही नहीं पूरी दुनिया आज ये जानने में दिलचस्पी दिखा रही है कि आख़िर डोनल्ड ट्रंप हैं कौन? डोनल्ड ट्रंप एक कामयाब अमेरिकी कारोबारी हैं. उनके पास अरबों रुपए की संपत्ति है. न्यूयॉर्क के बेहद महंगे मैनहैटन इलाक़े में उनके पास अच्छी ख़ासी रियल एस्टेट की ज़ायदाद है. कुल मिलाकर कहें तो वो एक रईस अमरीकी हैं.

बचपन
Image result for donald trump childhood
डोनाल्ड ट्रम्प का पूरा नाम डोनाल्ड जॉन ट्रम्प हैं का जन्म 14 जून, 1946 को अमेरिका के क्वीन न्यूयॉर्क मे हुआ था। डोनाल्ड ट्रम्प. ट्रम्प सी फ्रेड एवं मरियम एनी के चौथे संतान हैं। इनके चार भाई बहन और हैं। ट्रम्प के पिता और दादा दादी जर्मन आप्रवासियों रहे थे। उनके दादा ने 1885 मे अमेरिकन नागरिकता प्राप्त कर ली। डोनाल्ड के पिता व्यसायी थे जो की एलिजाबेथ ट्रम्प एंड सन्स के नाम की कंस्ट्रक्शन कंपनी चलाते थे। डोनाल्ड बचपन से ही एक ऊर्जावान, मुखर बच्चे थे। 13 साल की उम्र मे न्यूयॉर्क के मिलिटरी अकॅडमी मे एडमिशन हुआ। ट्रम्प ने अकॅडमी में अच्छा प्रदर्शन किया और 1964 मे अपने कॉलेज के लीडर चुने गये। वे अपने कॉलेज मे कई खेल के कप्तान भी रह चुके हैं।
Image result for donald trump high school
सफल बिजनेसमैन
Image result for donald trump young businessman

ट्रम्प ने अपने बिजनेस कॅरियर की शुरुआत अपने पिता के साथ न्यू यॉर्क से शुरू की। 1971 में उन्होंने खुद का रियल स्टेट कंपनी शुरु की। जिसका नाम उन्होंने Manhattan रियल स्टेट रखा। बिजनेस में ट्रम्प शुरुआत से ही सक्सेस के सीडी चड़ते गए। रियल स्टेट के मंझे हुए खिलाड़ी बन गये। उन्होने अपने काम के जरिए दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई। सबसे ज्यादा प्रसिद्धि उन्हें– फिफ्थ एवेनियू, ट्रम्प टावर, लक्जरी आवासीय होम, ट्रम्प पार्क, ट्रम्प प्लाज़ा, ट्रम्प प्लेस, 610 पार्क एवेनियू, और ट्रम्प वर्ल्ड टावर आदि से प्राप्त हुई। इसके अलावा उन्होने कई इमारतो को भी डिजाइन किया। इसके लिए ट्रम्प को अवॉर्ड भी मिले। ट्रम्प कई होटलो और प्रसिद्ध इमारतो का भी निर्माण करवा चुके है जिनमे होटेल प्लाजा भी शामिल हैं।

  • ट्रम्प बताते हैं– मैं अपने पिता को अपना आइडीयल मानता हूं। मैंने अपने पिता के साथ लगभग 5 साल तक कारोबार किया। जब वे अपने क्लाइंट के साथ डील करने मे बीजी रहते थे। तब मैं बहुत ध्यान से उनकी बात सुना करता था। मैंने उनसे कंस्ट्रक्शन वर्क के बारे मे बहुत ज्ञान प्राप्त किया। ट्रम्प बताते हैं मेरे पिता मुझे अपना लकी मानते थे। उनके अनुसार जब भी मैं उनके साथ रहता था तो उनकी बहुत अच्छी डील होती थी।

ट्रंप की सफलता के 10 मंत्र…
सभी की सुनने की आदत डालो- ट्रंप का कहना है कि सफल लीडर बनने के लिए आपको सभी की सुनने की आदत डालनी होगी। वे कहते हैं कि हिटलर एक बुरा आदमी था, पर उसके पास महान आइडिया थे। इसलिए सबकी सुनो, पता नहीं कहां से एक महान आइडिया आपको मिल जाए।

लड़ें, हारें फिर लड़ें- ट्रंप का कहना है कि कई बार एक छोटी लड़ाई हारने से आपको बड़ी लड़ाइयां जीतने के तरीके मिल जाते हैं। इसलिए हार को निराशा में मत लो। चाहे हार गए, पर आप लड़कर यह तो जान गए कि आपका प्रतिद्वंदी कैसे लड़ता है। इससे सीख लें और आगे की तैयारियां करें।

पहले से प्लानिंग करो- ट्रंप का मानना है कि लोग कहते हैं कि ट्रंप सफल हुए या हैं, पर ऐसा नहीं है। उन्हें यह नहीं पता कि मैं सफल हुआ नहीं, मैने खुद को सफल बनाया है। इसके लिए मैने अपनी हर बिजनेस प्लानिंग काफी पहले से शुरू की। इसमें असफलताएं भी मिलीं। इन असफलताओं के अनुभव से मैंने सफलता बनाई या हासिल की।

लोगों के अनुसार खुद को बदलो- सफल लीडर बनने के लिए ट्रंप कहते हैं कि आप यह लगातार नोट करें कि आपका साथ लोगों को कैसा लगता है। कहीं ऐसा तो नहीं कि आपकी टीम आपके बिना ज्यादा कम्फर्टेबल फील करती हो। अगर ऐसा है तो आपको खुद को बदलने की जरूरत है। लेकिन अगर आपका साथ लोगों को अच्छा लगने लगा है, तो समझ लें कि सफलता जल्दी ही मिल जाएगी।

टीम को प्रेरित करें- ट्रंप कहते हैं कि अपनी टीम की भावनाओं को समझना बहुत जरूरी है। किसी काम के प्रति उनका नजरिया जानें। अगर वे आपके सामने अपनी बात ठीक से नहीं रख पा रहे हैं तो आप उनकी सोच को शब्द दें। इन शब्दों को हकीकत बनाने के लिए टीम को प्रेरित करें। जब आपके काम में उनकी कही बात साकार होगी, तो आपको भी फायदा मिलेगा। टीम का इमानदार सपोर्ट भी मिलेगा।

नपे-तुले शब्दों का इस्तेमाल करें- एक लीडर को सफल बनने के लिए नपे-तुले शब्दों का इस्तेमाल करना चाहिए। ट्रंप कहते हैं कि यह ध्यान रखना चाहिए जब आप बहुत से लोगों से बात कर रहे हैं तो केवल उन बातों का ही प्रॉमिस करें, जो आप कर सकते हैं। लोगों को फालतू सपने न दिखाएं। जो कहें उसे करके दिखाएं। ऐसा होने पर आपकी टीम का भरोसा आप पर बढ़ेगा और सबका विकास होगा।

माहौल खुशनुमा रखें- ट्रंप कहते हैं कि उन्होंने अपने अनुभव से सीखा है कि काम के दौरान माहौल का बहुत फर्क पड़ता है। तनाव में आपके लोग अच्छा आउटपुट नहीं दे पाते। अगर माहौल खुशनुमा रहेगा तो आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी। यही बात दूसरे लोगों से बात करते हुए भी उपयोगी है। खुशमिजाज लोगों से मिलना लोग पसंद करते हैं। काम के प्रति सीरियस रहें, पर माहौल खुशनुमा बनाएं।

नियमों की परवाह मत करो, जरूरत के हिसाब से बनाते-तोड़ते रहो- ट्रंप का कहना है कि चाहे जो भी नियम हो, लोग उसे अपने फायदे के लिए तोड़ते रहते हैं। इसलिए आपकी सफलता के आगे कोई नियम आ रहा है तो उसे तोड़ दो। वे कहते हैं कि कई बार मार्केट रिसर्च कुछ कहती है और आपका मन कुछ कहता है। ऐसे में अगर सभी रिसर्च के साथ जाना चाहें और आपका मन न करे, तो लोगों के साथ चलने का नियम तोड़ दो।

निजी लाइफ

अपनी तीनों पत्नियों के साथ ट्रम्प

तीन शादियां: ट्रम्प ने अभी तक तीन शादियां की। पहली शादी इवाना (पूर्व ओलिंपिक खिलाड़ी ) से की थी। 1977 में हुई यह शादी 1991 तक चली। उस समय ट्रम्प की काफी आलोचना हुई थी। इसके बाद 1993 मे प्रसिद्ध अभिनेत्री मरला मेपल्स से शादी की जिनसे अफेर के चर्चे काफी पहले से थे। मेपल्स ने ट्रम्प के बेटे को जन्म दिया जोकि ट्रम्प की चौथी संतान थी। ये शादी भी ज्यादा दिन तक टिकी नही और 1999 मे दोनो के बीच तलाक हो गया। इस तलाक मे ट्रम्प को 2 बिलियन डॉलर मरला को देना पड़ा।  बाद मे 2005 मे ट्रम्प ने मशहूर मॉडल मेलानिया कनौस से शादी जो 2006 मे ट्रम्प के 5 वी संतान को जन्म दी। पहली बीवी से तीन और दूसरी तथा तीसरी से एक-एक संतान है। स्लोवेनिया में जन्मी मेलानिया पहले और मोनिकेर मेलेनिया के नाम से जानी जाती थीं। मेलेनिया पूर्वी यूरोप में पैदा हुई थीं और अमेरिका में मॉडलिंग के दौरान डोनाल्ड से मिली थीं। मेलेनिया और ट्रंप की शादी को 10 साल से ज्‍यादा हो चुके हैं। दोनों को एक बेटा भी है।
  • ट्रंप की पत्नी मेलानिया की नग्न तस्वीरों को प्रकाशित करने पर हुआ था विवाद- अमेरिकी टैबलॉइड ने रिपब्लिकन पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप की नग्न तस्वीरें प्रकाशित की है। इस पर काफी विवाद हो रहा है। ये तस्वीरें 1990 के दौर की हैं जब मेलानिया मॉडलिंग करती थीं। न्यूयॉर्क पोस्ट में रविवार (31 जुलाई) को पहले पन्ने पर छपी मेलानिया की नग्न तस्वीर के नीचे लिखा है, ‘संभावित प्रथम महिला को आपने इस तरह पहले कभी नहीं देखा होगा।’ अखबार में बताया गया है कि कुछ तस्वीरें ‘शायद ही कभी देखी गई हैं और अन्य तो कभी प्रकाशित भी नहीं हुई’। इन्हें 1995 में मेनहट्टन में एक शूट के दौरान लिया गया था। ये तस्वीरें फ्रांस की पुरुषों की एक पत्रिका के लिए ली गई थीं। यह पत्रिका अब बंद हो चुकी है। ट्रंप की पत्‍नी की न्‍यूड फोटो सामने आने का यह पहला मौका नहीं है। इससे पहले भी मेलानिया की न्‍यूड तस्‍वीरें सामने आई थी। तस्वीरों के बारे पूछे जाने पर ट्रंप ने पोस्ट को कहा, ‘मेलेनिया बेहद सफल मॉडलों में से एक थीं और उन्होंने कई फोटो शूट किए जिनमें से कई तो कवर और प्रमुख पत्रिकाओं के लिए थे। यह तस्वीर एक यूरोपीय पत्रिका के लिए ली गई थी लेकिन तब तक मेरी और मेलेनिया की मुलाकात नहीं हुई थी। यूरोप में इस तरह की तस्वीरें बहुत आम होती हैं।

राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत

Trump-Clinton.png
ट्रम्प ने अपनी राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत अक्तूबर 1999 मे रिफॉर्म पोलिटिकल पार्टी के जरिए की। 2000 के अमेरीकी राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ में शामिल भी हुए। लेकिन बिजनेस में कुछ परेशानियों के कारण अगस्त 2000 मे ट्रम्प को वापस अपने काम तरफ जाना पड़ा।

फिर 2012 मे उन्होंने फिर से राजनीतिक की तरफ रुख किया और प्रेसीडेंट की रेस के लिए खुद को उम्मीदवार घोषित किया। ट्रम्प ने हमेशा ही राष्ट्रपति बराक ओबामा को आड़े हाथ लिया। ओबामा की राष्ट्रीयता पर सवाल उठाए। 16 जून 2015 को ट्रम्प ने अधिकारिक तौर पे खुद को रिपब्लीकेशन पार्टी की तरफ से टिकट मिलने के बाद राष्ट्रपति पद के दौड़ मे शामिल किया।

डेमोक्रेटिक से रिपब्लिकन की ओर झूकाव- डोनाल्ड ट्रम्प पहले डेमोक्रेटिक पार्टी को सपोर्ट करते थे। 2001 तक वे इस पार्टी के रजिस्टर्ड मेंबर थे। ट्रम्प ने 2009 में रिपब्लिकन पार्टी में रजिस्ट्रेशन कराया। पहले वे रिपब्लिकन और डेमोक्रेट दोनों पार्टियों को चुनावी चंदा देते रहे हैं।

1988, Trump floated the idea of running for president in 1988, 2004, and 2012, and for Governor of New York in 2006 and 2014, but did not enter those races. He was considered as a potential running mate for George H. W. Bush on the Republican Party’s 1988 presidential ticket but lost out to future Vice President Dan Quayle. There is dispute over whether Trump or the Bush camp made the initial pitch.

1999, Trump filed an exploratory committee to seek the presidential nomination of the Reform Party in 2000. A July 1999 poll matching him against likely Republican nominee George W. Bush and likely Democratic nominee Al Gore showed Trump with seven percent support. Trump eventually dropped out of the race due to party infighting, but still won the party’s California and Michigan primaries after doing so.

2009, Trump appeared on The Late Show with David Letterman, and spoke about the automotive industry crisis of 2008–10. He said that “instead of asking for money”, General Motors “should go into bankruptcy and work that stuff out in a deal”.

2011, Trump publicly questioned Barack Obama’s citizenship and eligibility to serve as President. Although Obama had released his birth certificate in 2008,

2012, Republican primaries, Trump generally had polled at or below 17 percent among the crowded field of possible candidates. On May 16, 2011, Trump announced he would not run for president in the 2012 election, while also saying he would have won.

2013, Trump was a featured speaker at the Conservative Political Action Conference (CPAC). During the lightly attended early-morning speech, Trump said that President Obama gets “unprecedented media protection,” he spoke against illegal immigration, and advised against harming Medicare, Medicaid and Social Security.

In October 2013, New York Republicans circulated a memo suggesting Trump should run for governor of the state in 2014, against Andrew Cuomo; Trump said in response that while New York had problems and taxes were too high, running for governor was not of great interest to him.

In February 2015, Trump said he told NBC that he was not prepared to sign on for another season of The Apprentice at that time, as he mulled his political future.

June 16, 2015, Trump announced his candidacy for President of the United States at Trump Tower in New York City. He drew attention to domestic issues such as illegal immigration, offshoring of American jobs, the U.S. national debt, crime, and Islamic terrorism. He also announced his campaign slogan, “Make America Great Again.”

ट्रम्प से जुड़ी रोचक बातें

  • बिजनेस और ख्याति: 14 जून 1946 को जन्में डोनाल्ड जॉन ट्रम्प धनी परिवार से ताल्लूक रखते हैं। उन्होंने करियर की शुरुआत पिता की रियल इस्टेट कंपनी से की थी। आज से इन कंपनी के सर्वेसर्वा हैं। उनकी कुल सम्पत्ति 400 करोड़ डॉलर है। आज उनकी पहचान एक अमेरिकी बिजनेसमैन, टीवी पर्सनालिटी, राजनेता, लेखक और राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार के रूप में है।
  • ट्रम्प ताजमहल: ट्रम्प ने अपने नाम से कई कैसिनो, गोल्फ कोर्स, होटल बनवाए हैं। ऐसी ही एक बिल्डिंग है ट्रम्प ताज महल। यह न्यूजर्सी स्थित एक कैसिनो है। 2004 से 2015 तक उन्होंने एबीसी रियल्टी शो भी होस्ट किया था।
  • कंगाल से करोड़पति: बहुत कम लोग जानते हैं कि 1990 में ट्रम्प दिवालिया होने की कगार पर पहुंच गए थे। हालांकि अगले चार साल में उन्होंने 90 करोड़ रुपए का कर्ज चुका दिया। इसके लिए उन्हें अपनी कई सम्पत्तियां बेचनी पड़ी।
  • फुटबॉल के शौकिन: ट्रंप को फुटबॉल का भी काफी शौक है 1962 में अपनी यूनिवर्सिटी की टीम से खेल भी चुके हैं, यही कारण है कि उन्होंने 1984 में अमेरिकी फुटबॉल लीग में न्यूजर्सी टीम को खरीदा था।
  • अनोखी प्रॉपर्टी को मालिक: 90 मंजिला ट्रम्प टॉवर दुनिया की सबसे ऊंची रहवासी इमारत है। 18 बैडरूम वाला ट्रम्प पैलेस अमेरिका की सबसे महंगी प्रॉपर्टी है।
  • नशे से दूर: ट्रम्प ने कभी शराब और सिगरेट नहीं पी है। वहीं उनका बड़ा भाई फ्रेड अत्यधिक शराब पीने के कारण असमय दुनिया छोड़ गया। ट्रम्प भले ही नहीं पीते हों, लेकिन 2006 में उन्हें अपने नाम के ब्रांड वाली वोदका लांच की थी।
  • हेयरस्टाइल का राज: ट्रम्प जब सोकर उठते हैं तो वैसे बिल्कुल नहीं लगते, जैसे हम तस्वीरों में उन्हें देखते हैं। वे अपने बालों को हेयरड्रायर की मदद से आगे लाते हैं और फिर पीछे ले जाते हैं।
  • ओबामा से छत्तीस का आंकड़ा: ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के कट्टर विरोधी हैं। ओबामा के जन्म प्रमाणपत्र के खिलाफ अभियान में छेड़ने में उनका बड़ा हाथ था। हाल ही में उन्होंने ऑफर दिया है कि ओबामा राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देते हैं तो वे उनके किसी भी गोल्फ कोर्स पर खेलने के लिए आमंत्रित हैं।
  • अनोखी आदतः ट्रम्प को हाथ मिलाना पसंद नहीं है। जब कोई उन्हें इसके लिए मजबूर करता है तो वे उस शख्स का हाथ पकड़कर उसे अपनी तरह खींच लेते हैं।
  • ट्रम्प बनाम भारत: अपनी हालिया चुनावी भारत में ट्रम्प ने कॉल सेंटर प्रतिनिधि के अंग्रेजी में बात करने की नकल उतारते हुए भारत का मजाक उड़ाया। हालांकि तुरंत ही भारत को एक महान देश बताया और कहा कि वह भारतीय नेताओं से नाराज नहीं हैं। इससे पहले एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था, भारत अच्छा प्रदर्शन कर रहा है, लेकिन कोई इस बारे में बात नहीं करता।

आखिर कितने अमीर हैं डॉनल्ड ट्रंप

फोर्ब्स के मुताबिक ट्रंप की कुल संपत्ति 3.7 अरब डॉलर है जो पिछले साल के मुकाबले 80 करोड़ डॉलर कम है. 2016 में फोर्ब्स की सूची में वे 35 स्थान लुढ़कर 156वें पायदान पर आ गए हैं. पिछले साल अक्टूबर में ट्रंप की कुल संपत्ति 4.5 अरब डॉलर थी और वे ‘400 सबसे अमीर अमेरिकियों की फोर्ब्स की सूची में’’ 121वें पायदान पर थे.ट्रंप और उनके पिता 1982 में आई पहली सूची में भी थे और उनकी साझा संपत्ति 20 करोड़ डॉलर थी. लेकिन 1990 में कारोबार में हुए घाटे के बाद ट्रंप इस सूची से बाहर हो गए थे. छह साल बाद 45 करोड़ डॉलर संपत्ति के साथ वे सूची में फिर लौट आए.
donald-trump-rich-wealth-tax-returns.jpg
  • लास वेगस- लास वेगस में ट्रंप इंटरनेशनल होटल एंड टावर स्थित है. इसके बराबर में मौजूद लक्जरी विन रिजॉर्ट भी इसके सामने बौना नजर आता है. ट्रंप कॉम्प्लेक्स इस शहर की तीसरी सबसे ऊंची इमारत है।
  • शिकागो- शिकागो के बहुत सारे लोगों को यहां दिखने वाले ट्रंप होटल एंड टावर से परेशानी है. मेयर राहम इमैनुएल ने तो इसे “भद्दा और असुरुचिपूर्ण” तक कह डाला और उनके नाम के हिस्से ‘ट्रंप’ को बैन भी करवाया. लेकिन पांच साल के बाद फिर ट्रंप ने इसकी 16वीं मंजिल पर अपना नाम लगवा लिया।
  • अटलांटिक सिटी- यहां ताज महल कैसे? असल में ट्रंप ने 1990 में न्यू जर्सी की अटलांटिक सिटी में ताज महल का निर्माण कार्य पूरा करवाया. करीब एक अरब डॉलर की लागत से बने इस कसीनो और होटल को 25 साल तक चलाने के बाद दिवालिया होने की नौबत आ गई थी. 2014 में यह बिक गया लेकिन नए मालिकों ने ट्रंप ब्रांड नहीं छोड़ा।
  • मैनहैट्टन की सड़कों पर- न्यूयॉर्क में स्थित ट्रंप टावर उनकी बहुत खास संपत्ति माना जाता है. ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के अभियान के लिए यही उनका मुख्यालय भी है. इस इमारत में फुटबॉल सितारे क्रिस्टियानो रोनाल्डो, अभिनेता ब्रूस विलिस जैसे कई मशहूर सेलेब्रिटीज के आशियाने हैं. खुद ट्रंप का परिवार भी यहीं लक्जरी टावर में रहता है।
  • न्यूयॉर्क का विवादित प्रतीक- 725 फिफ्थ एवेन्यू पर बने ट्रंप टावर को बहुत से स्थानीय निवासी पसंद नहीं करते तो कई इसे बहुत शालीन और टाइमलैस बताते हैं. यह छह मंजिला ट्रंप टावर संगमरमर और सुनहरे रंगों से सजा है. आधुनिक आर्किटेक्चर के शौकीनों और ट्रंप समर्थकों के लिए यह बड़ा आकर्षण है।
  • गरीबी-अमीरी का साफ अंतर- पनामा सिटी के ट्रंप ओशन क्लब में एक होटल, 700 अपार्टमेंट और अपना प्राइवेट यॉट क्लब है. यह पूरे लैटिन अमेरिका की सबसे ऊंची बिल्डिंग है. हालांकि इससे पास ही स्थित गरीब लोगों की बस्ती के कारण कई लोग इन अपार्टमेंट में नहीं रहना चाहते।
  • स्कॉटिश विरोध- भले ही एबरडीन, स्कॉटलैंड में बनाए अपने ट्रंप इंटरनेशनल गोल्फ लिंक्स एस्टेट को डॉनल्ड ट्रंप “दुनिया का सर्वोत्तम गोल्फ कोर्स” कहते रहें, पास की एक जमीन को बेचने के लिए एक स्थानीय स्कॉट आज तक तैयार नहीं हुआ. जून में ही ट्रंप वहां पहुंचे और स्कॉटलैंड के ईयू में बने रहने की इच्छा को नजरअंदाज करते हुए यूके के ब्रेक्जिट के निर्णय की खूब तारीफ की।
  • एर्दोआन के मुकाबले ट्रंप- पूरे यूरोप में सबसे पहला ट्रंप टावर इस्तांबुल में ही बना था. यह अपने विशाल वाइन संग्रह के लिए मशहूर है. हालांकि इस ऊंचे टावर से ट्रंप का नाम हटाने की मांग हो रही है. इस कॉम्प्लेक्स का मालिक एक तुर्की अरबपति है जिसने ट्रंप ब्रांड नेम लिया हुआ है. ट्रंप के इस्लाम और मुस्लिम विरोधी विचारों के कारण राष्ट्रपति एर्दोआन समेत तुर्की के कई मुसलमान नाखुश हैं।

Trump Tower , 725 Fifth Avenue , Midtown Manhattan: A 58-story mixed-use tower, the headquarters of the Trump Organization, now 100 percent leased, was developed by a business partnership between the Trump Organization and the Equitable Life Assurance Society of the United States in 1983. Trump retains full control of the commercial and retail components of the tower. In 2006, it was valued at $318 million, less a $30 million mortgage. The total value of Trump Tower’s commercial and retail spaces is $460 million. The building was refinanced for $100 million in August 2012, allowing Trump to take a cash distribution of over $73 million.

Personal Residence Trump Tower: Top 3 floors of Trump Tower with approximately 30,000 square feet (3,000 m²) of space; the triplex penthouse is decorated in diamond, 24-carat gold and marble, and features an interior fountain and a massive Italianate-style painting on the ceilings. Worth as much as $50 million, it is one of the most valuable apartments in New York City.

Trump World Tower , 845 United Nations Plaza, also in Midtown Manhattan: In 2006, Forbes estimated “$290 million in profits and unrealized appreciation” going to Trump.

AXA Financial Center 1290 Avenue of the Americas, New York City and 555 California Street , in San Francisco: When Trump was forced to sell a stake in the railyards on Manhattan’s West Side, the Asian group to which he sold then sold much of the site for $1.76 billion. Trump owns a 30 percent stake in both 1290 Sixth Avenue and 555 California Street. A 43-story trophy office tower, 1290 Sixth is worth as much as $1.5 billion.Trump’s stake is estimated to be $450 million.Trump’s interest in 555 California Street is worth $400 million.

The Trump Building at 40 Wall Street : Trump bought and renovated this building for $1 million in 1995. The pre-tax net operating income at the building as of 2011 was US$20.89 million and is valued at $350 to $400 million, according to the New York Department of Finance. Trump took out a $160 million mortgage attached to the property with an interest rate of 5.71 percent to use for other investments. Forbes valued the property at $260 million in 2006.

Trump Entertainment Resorts : This company, now owned by billionaire Carl Icahn , owns two Trump branded casino resorts, only one of which continues to operate today. After a long period of financial trouble, the company entered bankruptcy protection in 2001, 2004, 2009, and later in 2014 owing $1.2 billion in debts. In 2004, Trump agreed to invest $55 million cash in the new company and pay $16.4 million to the company’s debtors. In return he held a 29.16% stake in the new public company. This stake was worth approximately $171 million in October 2006.

Riverside South/Trump Place : Riverside South is currently the largest single private development in New York City. Until he ceased active involvement in 2001, Trump was the developer, although the majority interest was held by investors from Hong Kong through their Hudson Waterfront Associates.

Trump International Hotel and Tower Chicago : The entire project is valued at $1.2 billion ($112 million stake for Trump).

Trump Hotel Las Vegas : A joint development with fellow Forbes 400 members, Phil Ruffin , and Jack Wishna . Trump’s stake is valued at $162 million.

Trump International Hotel and Tower New York : Trump provided his name and expertise to the building’s owner (GE) during the building’s re-development in 1994 for a fee totaling $40 million ($25 million for project management and $15 million in incentives deriving from the condo sales). Forbes values Trump’s stake at $12 million. In March 2010, the penthouse apartment at Trump International Hotel & Tower in New York City sold was for $33 million.

Trump Park Avenue Park Avenue & 59th Street : It is valued at $142 million. Trump owns 23 apartments at Trump Park Avenue, which he rents for rates as high as $100,000 per month, and 19 units at Trump Parc.

Nike Store: The NikeTown store is located in Trump Tower. The leasehold valued at $200 million. Nike’s lease in the building expires in 2017 and the building serves as collateral for bonds held by Trump worth $46.4 million.

Palm Beach estate: A 43,000 square feet (4,000 m²) large oceanfront mansion lot in Palm Beach. Trump purchased this property for $40 million at a bankruptcy auction in 2004. Trump sold the property for $100 million in June 2008, making it the most expensive house ever sold in the United States. (The previous record is $70 million for Ron Perelman ‘s Palm Beach estate in 2004.).

Mar-a-Lago Palm Beach, Florida : Most of this estate has been converted into a private club. This landmark property, according to Trump, has received bids near $200,000,000.

Seven Springs: A 213-acre estate located outside the town of Bedford in Westchester County. The building features a 13-bedroom mansion, but is also zoned to allow for the construction of 13 additional homes at the site. Trump paid $7.5 million for the entire property in 1995. Local Westchester County brokers put the property’s value at around $40 million.

Beverly Hills estate: A large mansion located on Rodeo Drive. The property is valued at $8.5 to $10 million.

शौकिन ट्रंप
Golf course: The Trump Organization operates many golf courses and resorts in the United States and around the world. The number of golf courses that Trump owns or manages is about 18, according to Golfweek.[99] Trump’s personal financial disclosure with the Federal Elections Commission stated that his golf and resort revenue for the year 2015 was roughly $382 million.

Professional sports: In 1983, Trump’s New Jersey Generals became a charter member of the new United States Football League (USFL). Before the inaugural season began in 1983, Trump sold the franchise to Oklahoma oil magnate J. Walter Duncan, and bought it back after the season. He then attempted to hire longtime Miami Dolphins coach Don Shula, but the deal fell apart because he was unwilling to meet Shula’s demand for an apartment in Trump Tower. The 1986 season was cancelled after the USFL won a pyrrhic victory in an antitrust lawsuit against the NFL: the NFL technically lost the suit, but the USFL was awarded just $3.00 in cash damages. The USFL, which was down to just 7 active franchises from a high of 18, folded soon afterward.

Mike Tyson’s fight: He also hosted several boxing matches in Atlantic City at the Trump Plaza, including Mike Tyson’s 1988 fight against Michael Spinks, and at one time acted as a financial advisor for Tyson. In February 1992, Mike Tyson was convicted in Indiana for raping an 18-year-old beauty pageant contestant. Before he was sentenced, Trump stated that the trial was a “travesty” and that he had seen many women groping Tyson. Trump suggested that Tyson should be released from prison and allowed to continue fighting, and offered to promote one or more bouts, the proceeds of which ($15 to $30 million, according to Trump) would go to Tyson’s accuser and to victims of rape and abuse.

Beauty pageants
From 1996 until 2015, when he sold his interests, Trump owned part or all of the Miss Universe, Miss USA, and Miss Teen USA beauty pageants. Among the most recognized beauty pageants in the world, the Miss Universe pageant was founded in 1952 by the California clothing company Pacific Mills.

Trump was dissatisfied with how CBS scheduled his pageants, and took both Miss Universe and Miss USA to NBC in 2002. In 2006, Miss USA winner Tara Conner tested positive for cocaine, but Trump let her keep the crown, for the sake of giving her a second chance. That decision by Trump was criticized by Rosie O’Donnell, which led to a very blunt and personal rebuttal by Trump criticizing O’Donnell.

In 2015, NBC and Univision both ended their business relationships with the Miss Universe Organization after Trump’s controversial 2015 presidential campaign remarks about Mexican illegal immigrants. Trump subsequently filed a $500 million lawsuit against Univision, alleging a breach of contract and defamation.

On September 11, 2015, Trump announced that he had become the sole owner of the Miss Universe Organization by purchasing NBC’s stake, and that he had “settled” his lawsuits against the network, though it was unclear whether Trump had yet filed lawsuits against NBC. He sold his own interests in the pageant shortly afterwards, to WME/IMG. The $500 million lawsuit against Univision was settled in February 2016, but terms of the settlement were not disclosed.

फिल्मों का शौक

Trump has twice been nominated for an Emmy Award and has made appearances as a caricatured version of himself in television series and films. He has also played an oil tycoon in The Little Rascals. Trump is a member of the Screen Actors Guild and receives an annual pension of more than $110,000. He has been the subject of comedians, flash cartoon artists, and online caricature artists. Trump also had his own daily talk radio program called Trumped!

In 2003, Trump became the executive producer and host of the NBC reality show The Apprentice, in which a group of competitors battled for a high-level management job in one of Trump’s commercial enterprises. Contestants were successively “fired” and eliminated from the game. In 2004, Trump filed a trademark application for the catchphrase “You’re fired.”On February 16, 2015, NBC announced that they would be renewing The Apprentice for a 15th season. On February 27, Trump stated that he was “not ready” to sign on for another season because of the possibility of a presidential run

Filmography
Ghosts Can’t Do It (1989)
Home Alone 2: Lost in New York (1992)
Across the Sea of Time (1995)
The Little Rascals (1995)
Eddie (1996)
The Associate (1996)
Celebrity (1998)
Zoolander (2001)
Two Weeks Notice (2002)
Wall Street: Money Never Sleeps (2010)

डॉनल्ड ट्रंप के उलफजूल बयान

  • 7/11?- “मैं वहीं था, मैंने पुलिस और दमकल कर्मियों को देखा था, 7/11 को, वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर, इमारत ढहने के ठीक बाद.” ट्रंप 9/11 की बात कर रहे थे लेकिन तारीख में थोड़ा सा चूक गए।
  • साइज का मामला!- “मेरे हाथ देखिए, क्या आपको ये छोटे लगते हैं? लोग कहते हैं कि अगर हाथ छोटे हैं, तो कुछ और भी छोटा होगा. मैं आपको गारंटी देता हूं, मुझे ऐसी कोई दिक्कत नहीं हैं!” 
  • संभल कर टेड!- “टेड क्रूज ने अपने कैम्पेन के लिए मेलानिया की एक तस्वीर का इस्तेमाल किया है. ध्यान रहे टेड, मैं भी तुम्हारी पत्नी की पोल खोल सकता हूं.” डॉनल्ड ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप की कई न्यूड तस्वीरें इंटरनेट में फैली हैं, जिन्हें अब अखबार भी छापने लगे हैं।
  • बेटी संग डेट? “इवांका अगर मेरी बेटी ना होती, तो शायद मैं उसे डेट कर रहा होता.” इवांका ट्रंप 34 साल की हैं. बाप बेटी की 20 साल पहले ली गयी एक तस्वीर पर भी काफी बवाल हुआ जिसमें इवांका पिता की गोद में बैठी हैं।
  • बड़बोले ट्रंप! “अगर हिलेरी क्लिंटन अपने पति को संतुष्ट नहीं कर सकती हैं, तो वो यह कैसे सोच सकती हैं कि वो पूरे अमेरिका को संतुष्ट कर देंगी?” ट्रंप का इशारा बिल क्लिंटन और मोनिका लेविंस्की के अफेयर की तरफ था।
  • जुमलेबाज ट्रंप?! “मैं एक बड़ी सी दीवार बनाऊंगा, और यकीन मानिए, मुझसे अच्छी दीवारें कोई भी नहीं बना सकता. मैं देश की दक्षिणी सीमा पर यह बड़ी सी दीवार बनाऊंगा और मेक्सिको से उसके पैसे भी वसूल लूंगा.”
  • ये ब्रेक्जिट, ब्रेक्जिट क्या है? “मैं अभी स्कॉटलैंड पहुंचा. यहां तो वोट के चलते तहलका मचा है. इन लोगों ने अपने देश को वापस जीत लिया है, वैसे ही जैसे हम अमेरिका को वापस जीत लेंगे.” ट्रंप को शायद ब्रेक्जिट के आंकड़े समझ नहीं आए. स्कॉटलैंड ने ईयू में बने रहने के लिए वोट दिया था।
  • रूस, सुन रहा है ना तू? “रशिया, अगर तुम सुन रहे हो, मैं उम्मीद करता हूं कि तुम उन 30,000 ईमेल्स को ढूंढ सकोगे जो गायब हैं.” ट्रंप यहां रूस को निमंत्रण दे रहे थे कि वह हिलेरी क्लिंटन के अकाउंट को हैक करे।
  • शब्दों से नहीं, असली वार? “हिलेरी क्लिंटन सेकंड अमेंडमेंट को हटा देना चाहती हैं. जिस दिन सत्ता उनके हाथ में आ गयी, आप कुछ भी नहीं कर सकेंगे. पर शायद सेकंड अमेंडमेंट वाले लोग कुछ कर सकें, क्या पता!” यहां ट्रंप गन लॉबी को क्लिंटन की ओर बंदूकें मोड़ने की सलाह दे रहे हैं।
  • मैं और मेरा आईक्यू! “मैं सबसे ज्यादा आईक्यू वाले लोगों में से हूं और आप सब यह बात जानते हैं. इसमें खुद को मूर्ख या असुरक्षित महसूस करने की कोई जरूरत नहीं है, इसमें आपकी कोई गलती नहीं है!”
सेलिब्रिटी कौन ट्रंप के साथ और कौन हिलेरी के साथ
imggallery

ट्रंप के पक्ष में नहीं ये बातें

अनुभवी नहीं हैं ट्रंप
  • डोनाल्ड ट्रंप को राजनीति का कोई अनुभव नहीं है. न ही वह कभी किसी तरह के सरकारी मशीनरी से जुड़े. ऐसे में उनके लिए अमेरिकी कांग्रेस से तालमेल बिठाना और दोनों पार्टी के सदस्यों को अपने विचारों पर सहमत कर पाना खासा मुश्किल होने वाला है. क्योंकि ट्रंप को पता ही नहीं है कि सरकारी काम होते कैसे हैं.
आइडिया कैसे बनेगा हकीकत
  • डोनाल्ड ट्रप जहां अपने संबोधनों में बड़ी बड़ी और विवादास्पद बाते करते नजर आते हैं, वहीं उनकी इन बातों को वह अमली जामा कैसे पहनाएंगे इसका शऊर शायद उन्हें खुद ही नहीं है. कई राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि डोनाल्ड ट्रंप जो कह रहे हैं उसको पूरा कैसे करेंगे इसका उनके पास कोई सॉलिड प्लान नहीं है. अपने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी के चलते उन्होंने कभी किसी भी मुद्दे को लेकर अपनी स्पष्ट राय पेश नहीं की. सिर्फ हवा में तीर चलाते हैं. ‘मास डिपोर्टेशन’ की बात करने वाले ट्रंप ने इसपर भी अपने पत्ते नहीं खोले.
पब्लिसिटी के लिए हवा में बाते करते हैं
  • रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार ट्रंप पब्लिसिटी के लिए किसी भी हद तक गुजर जाते हैं. कई बार ऐसे बयान भी दे चुक हैं जिनसे काफी विवाद हुआ. अमेरिका-मैक्सिको के बॉर्डर पर दीवार बनाने की बात हो या अमेरिका में नौकरी कर रहे विदोशियों को निकालने की बात हो. मुसलमानों की एंट्री बंद करने की या मैक्सिकन लोगों को रेपिस्ट कहने की. इन बयानों से उनको काफी पब्लिसिटी हासिल हुई है.
कई बार दिवालिया हो चुके हैं
  • डोनाल्ड ट्रंप चार बार दिवालिया हो चुके हैं. हालांकि इसकी जिम्मेदारी लेने से व पूरी तरह पलट जाते हैं लेकिन ये सच है कि वह बिजनेस में भी मात खा चुके हैं. ऐसे में अमेरिकी अर्थव्यवस्था को संभाल पाने में वह कितने सफल हो पाएंगे इसपर बड़ा सवालिया निशान लगा है.
जातिवादी हैं
  • जो लोग बराक ओबामा के धर्म को लेकर उनपर उंगलियां उठाते आए हैं और ट्रंप के जातिवादी टिप्पणियों के लिए उसकी पीठ थपथपा रहे हैं. ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या वाकई ट्रंप बड़े धार्मिक इंसान हैं. नहीं ट्रंप का दो बार तलाक हो चुका है और तीन शादियां. हाल ही में अपने चर्च जाने को लेकर जो बयान उन्होंने दिया उसपर जमकर हंगामा हुआ था. अश्वेतों और मुस्लिमों को लेकर दिए उनके विवादित बयान काफी हंगामा मचा चुके हैं.
इंसानियत से दूर हैं
  • ट्रंप नैतिकता में कितने आगे हैं इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने गोल्फ कोर्स बनाने के लिए स्कॉटिश नागरिकों को बेघर कर दिया था. उनके घरों पर बुल्डोजर चलवाए थे. ठीक ऐसी ही कुछ हरकत ट्रंप ने अल्पसंख्यकों के होटल और कसीनो को उजाड़ कर की थी. वह कई बार गरीब लोगों के अफोर्डेबल स्वास्थ्य सेवाओं के खिलाफ भी बोलते नजर आएं हैं. ऐसे में अगर ट्रंप राष्ट्रपति बन गए तो अमेरिका के गरीबों की कितनी मदद करेंगे ये सोच पाना मुश्किल नहीं होगा.
खराब भाषा के ज्ञानी हैं
  • अपनी भद्दी भाषा को लेकर ट्रंप को कई बार फजीहत झेलनी पड़ी है. ट्रंप ऐसी भाषा का इस्तेमाल करते हैं जो एक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को शोभा नहीं देती. अमेरिकी अखबारों में उनकी भाषा को थर्ड ग्रेड का भी बताया जा चुका है.

डोनाल्ड ट्रंप का बयान और विवाद

डोनाल्ड ट्रंप ने क्या दिया था बयान?

  • यूएस प्रेसिडेंशियल इलेक्शन में रिपब्लिकन कैंडिडेट बनने की दौड़ में सबसे आगे चल रहे ट्रंप
  • मंगलवार को कहा था- “अमेरिका में मुस्लिमों की एंट्री पर बैन तब तक जारी रहना चाहिए, जब तक देश को यह पता न चल जाए कि आखिर यहां हो क्या रहा है।”
  • ट्रंप इससे पहले अमेरिका में मस्जिदों को बंद करने और मुसलमानों पर कड़ी निगरानी रखने का सुझाव भी दे चुके हैं।
  • यह भी कहा गया कि मुस्लिमों की अमेरिका के लिए नफरत को देखते हुए इस तरह का प्रपोजल दिया जा रहा है।

क्यों दिया था ऐसा बयान?

  • पिछले हफ्ते अमेरिका के सैन बर्नार्डिनो के कम्युनिटी सेंटर पर फायरिंग हुई थी। इसमें 14 लोगों की मौत हो गई थी।
  • हमलावर कपल सैयद फारुख और तश्फीन मलिक पाकिस्तानी मूल के बताए गए हैं।
  • इसी घटना के बाद ट्रंप का बयान आया। उन्होंने दुनियाभर में इस्लामिक कट्टरपंथ बढ़ने को लेकर यह दलील दी।
  • ट्रंप के इस बयान के बाद उनका विरोध शुरू हो गया। विरोध करने वालों में उनकी अपनी पार्टी के नेता भी हैं।
  • फ्लोरिडा में सेंट पीटर्सबर्ग के मेयर रिक क्रिसमैन ने अपने शहर में ट्रंप के आने पर ही रोक लगा दी है। इस सबके बावजूद ट्रंप अपनी बात पर कायम रहे।

पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान

  • ट्रंप ने दावा किया था कि अमेरिका में 11 सितंबर, 2001 को हुए आतंकवादी हमलों के बाद मुसलमानों ने जश्न मनाया था।
  • इस बारे में पूछा जाने पर उन्होंने कहा था कि उनका बयान सौ फीसदी सही है।
  • ट्रंप ने कहा था- मस्जिदों को निगरानी में रखने की जरूरत है। मैं अमेरिका में मुसलमानों के रहने पर डिबेट करना चाहता हूं।
  • ट्रंप ने पिछले दिनों कहा था- मैं राष्ट्रपति बनता हूं तो उन कंपनियों को कोई एच-1बी वीजा जारी नहीं करूंगा, जो अमेरिकियों को निकालकर विदेशियों को नौकरी पर रखते हैं। मेरा जस्टिस डिपार्टमेंट उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा।
  • उन्होंने भारतीयों समेत विदेशियों को नौकरी पर रखे जाने को लेकर नाराजगी जताई थी।

डोनाल्ड ट्रंप के विवादित बयानों का सूत्रधार- रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप अपने विवादित बयानों के लिए सुर्खियों में रहते हैं। लेकिन उनके बयानों की भाषा को कौन तैयार करता है, ये एक दिलचस्प बात है। रॉय कुन वो शख्स हैं जो ट्रंप की आक्रामक भाषा के प्रणेता बताए जाते हैं। पेशे से वकील कुन वो शख्स हैं जो ट्रंप की तरह ही विवादित रहे हैं। कुन के बारे में बताया जाता है कि वो अपनी कामयाबी के लिए नैतिक-अनैतिक भाषा का इस्तेमाल करने से नहीं चुकते हैं। कुन न्यूयॉर्क के न्यायिक हलके में अपने विरोधियों को किनारे लगाने के लिए अनैतिक रास्तों का सहारा लेते रहे हैं। एक ऐसा ही वाक्या है जब ट्रंप अपनी कंपनी में मुस्लिमों के प्रति भेदभाव के मामले में अदालती कार्यवाही का सामना कर रहे थे। उस वक्त कुन ने उन्हें सलाह दिया कि आप साफ तौर में बोलें कि ऐसे लोगों को नरक में जाने की जरूरत है। द वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति की चुनाव प्रक्रिया में शामिल होने से पहले ट्रंप ने कुन से सलाह मशविरा किया। कुन ने बताया कि आर आक्रमण, प्रति आक्रमण और कभी माफी न मांगने वाले शख्सियत के तौर पर खुद को पेश करें। ट्रंप ने कुन के बताए हुए रास्ते पर जाने का फैसला किया। इसका असर प्राइमरी चुनाव में देखने को मिला। ट्रंप ने न केवल अपने खिलाफ उम्मीदवार टेड क्रुज के ऊपर तीखे कमेंट करते रहे। बल्कि हिलेरी क्लिंटन के ऊपर विवादित टिप्पणी करने से नहीं चुकते हैं।

डॉनल्ड ट्रंप ने कब-कब लिए यू-टर्न
अमेरिका के राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डॉनल्ड ट्रंप पक्के राजनेता हैं क्योंकि उन्हें यू-टर्न लेना अच्छे से आता है। वोटर्स को अपने पाले में करने के लिए ट्रंप कई बार अपने बयान से पलटियां मार चुके हैं, चाहे वह इराक हमले की बात हो, हिलरी क्लिंटन हों या फिर अवैध प्रवासियों का मुद्दा हो। आगे की स्लाइड्स में देखिए कब, कहां फिसले ट्रंप और कब-कब लिया यू-टर्न-

इराक हमले पर
शुरूआती बयान- 2002 में जब ट्रंप से इराक हमले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि मैं इसके पक्ष में था। मुझे लगता है कि पहली बार कुछ सही ढंग से किया गया।
यू टर्न- 2016 में ट्रंप ने अपने बयान से पलटी मारी और कहा कि मैं इकलौता ऐसा व्यक्ति था जिसने कहा था कि हमें इराक में नहीं घुसना चाहिए था।

हिलरी क्लिंटन पर
शुरूआती बयान-  ट्रंप शुरूआत में हिलरी की तारीफों के पुल बांधते थे। उन्होंने एक बार हिलरी के बारे में कहा था, वह बहुत ही टैलंटेड हैं। उनके पास ऐसा पति है जिसे मैं भी बहुत पसंद करता हूं। हिलरी क्लिंटन गजब महिला हैं, वह बहुत मेहनत करती हैं, मैं उन्हें पसंद करता हूं।
यू टर्न- हिलरी की तारीफों के पुल बांधने वाले ट्रंप जब उनके प्रतिद्वंद्वी बने तो उसके बाद से उन्हें हिलरी में एक अच्छाई नजर आना बंद हो गई। ट्रंप ने कहा, उनके पास अमेरिका का राष्ट्रपति होने की कोई योग्यता नहीं है। अमेरिका के पूरे इतिहास में क्लिंटन से खराब सेक्रटरी ऑफ स्टेट नहीं हुआ है।

बिल क्लिंटन पर
शुरूआती बयान- अब महिलाओं से यौन उत्पीड़न को लेकर ट्रंप हिलरी और उनके पति बिल क्लिंटन को निशाना साधते रहते हैं, लेकिन उन्होंने कभी बिल क्लिंटन की पैरवी करते हुए कहा था कि बेचारे क्लिंटन को ऐसी चीजों में उलझना पड़ रहा है जो बिल्कुल गैर-जरूरी है।
यू टर्न-  ट्रंप ने बिल क्लिंटन पर निशाना साधते हुए कहा कि महिलाओं से छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न के मामले में बिल क्लिंटन से बदतर कोई नहीं है।

लीबिया पर
शुरूआती बयान- लीबिया में गद्दाफी हजारों लोगों की जानें ले रहा है। हमें लीबिया में घुसना चाहिए और इस इंसान को रोकना चाहिए। ऐसा करना हमारे लिए बहुत ही आसान होगा।
यू टर्न- मैंने लीबिया पर कभी कोई चर्चा नहीं की। मैं लीबिया के समर्थन में नहीं था, अगर गद्दाफी जिंदा होते तो शायद हालात अब से ज्यादा बेहतर होते।

अवैध प्रवासियों पर
शुरूआती बयान- अगर अमेरिका में कोई अवैध तरीके से रह रहा है तो हम उसे बाहर निकाल फेकेंगे।
यू टर्न-2016 में ट्रंप ने इस मुद्दे पर थोड़ी नरमी दिखाई और कहा कि हम बहुत ही मानवीय तरीके से सब कुछ करेंगे।

टैक्स रिटर्न
शुरूआती बयान-अगर मैं कार्यकाल संभालूंगा तो मैं टैक्स रिटर्न जरूर जारी करूंगा।
यू टर्न-इस पर भी ट्रंप ने पलटी मारी और कहा कि मुझे नहीं लगता कि मतदाता टैक्स रिटर्न जारी करने के लिए तैयार हैं।

यूनिवर्सल हेल्थ केयर पर
शुरूआती बयान-यूनिवर्सल हेल्थकेयर पर शुरूआत में ट्रंप ने कहा था कि मैं हर किसी की देखभाल करने जा रहा हूं। सरकार हर व्यक्ति की हेल्थ के लिए पैसा खर्च करेगी।
यू टर्न-टेड क्रूज ने जब उनसे पूछा कि क्या सरकार हर किसी की हेल्थकेयर के लिए भुगतान करेगी, यह बात सही है या गलत तो ट्रंप ने जवाब दिया, गलत।

अबॉर्शन को बैन करने के मुद्दे पर
शुरूआती बयान-डॉनल्ड ट्रंप हमेशा से ही अबर्शन के खिलाफ रहे हैं। पहले उन्होंने अबॉर्शन पर बैन लगाने की बात करते हुए कहा था कि अबॉर्शन कराने वाली महिलाओं के लिए सजा का भी प्रावधान किया जाना चाहिए हालांकि बाद में उन्होंने कहा कि अबॉर्शन के मामले में महिलाएं खुद पीड़ित होती हैं क्योंकि उनकी कोख में बच्चा पलता है। मैं पूरी तरह से प्रो-लाइफ हूं।
यू टर्न-1999 में जब डॉनल्ड ट्रंप से पूछा गया था कि वह खुद को डेमोक्रेट के नजदीक पाते हैं या रिपब्लिकन के तो ट्रंप ने जवाब दिया था कि कई मामलों में मैं खुद को डेमोक्रेट के करीब पाता हूं। इकॉनमी रिपब्लिकन की तुलना में डेमोक्रेट शासन में ज्यादा बेहतर है।

वो 10 बातें… ट्रंप जो अमेरिकी चुनाव में उठा रहे हैं…

  • 1. अमरीकी मस्जिदों की निगरानी होनी चाहिए. ट्रंप मानते हैं कि चरमपंथ को रोकने की पहल के तहत सुरक्षा एजेंसियों को मुसलमानों की निगरानी करनी चाहिए. उन्हें मस्जिदों पर निगरानी रखने के राजनीतिक रूप से ग़लत होने से कोई परेशानी नहीं है.2. चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ाई में अमरीका को कठोर पूछताछ के तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए जिनमें वॉटर बोर्डिंग यानी क़ैदी को बार-बार पानी में डुबोना शामिल हैं. ट्रंप का कहना है कि इस्लामिक स्टेट के सर क़लम करने के तरीक़े की तुलना में ये कुछ भी नहीं है.3. ट्रंप का कहना है कि वो इस्लामिक स्टेट को भीषण बमबारी कर नष्ट कर देंगे. उनका दावा है कि इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ लड़ाई में और कोई उम्मीदवार उनके जितना कठोर नहीं हो सकता है. उन्होंने कहा कि वे इस्लामिक स्टेट की तेल तक पहुँच रोककर इस संगठन को कमज़ोर करेंगे.4. ट्रंप अमरीका और मैक्सिको के बीच एक बड़ी और विशाल दीवार बनाना चाहते हैं ताकि प्रवासी और सीरियाई शरणार्थी अमरीका में न घुस सकें. ट्रंप का मानना है कि अमरीका में आने वाले ज़्यादातर मैक्सिकोवासी अपराधी क़िस्म के होते हैं. उन्होंने कहा, “वे ड्र्गस लाते हैं और अपराध करते हैं. वे बलात्कारी होते हैं.” ट्रंप का कहना है कि दीवार बनाने के लिए पैसा मैक्सिको को देना चाहिए. बीबीसी के अनुमान के मुताबिक़ ऐसी दीवार पर 2.2 अरब डॉलर से 13 अरब डॉलर तक का ख़र्च आ सकता है.5. वे अमरीका में रह रहे क़रीब एक करोड़ दस लाख अवैध प्रवासियों को वापस भेजना चाहते हैं. उनके इस विचार को बेहद महंगा और विदेशी मूल के लोगों के ख़िलाफ़ नफ़रत फ़ैलाने वाला माना जा रहा है और उसकी आलोचना हो रही है. बीबीसी के अनुमान के मुताबिक़ इस पर क़रीब 114 अरब डॉलर का ख़र्च आ सकता है. वे पैदा होने पर नागरिकता देने की नीति को भी बंद करना चाहते हैं. इस नीति के तहत अमरीका में पैदा होने वाले हर बच्चे को अमरीकी नागरिकता का अधिकार होता है.

    6. ट्रंप का कहना है कि उनके व्लादिमीर पुतिन से संबंध बहुत अच्छे रहेंगे. सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में ट्रंप ने कहा था कि पुतिन और ओबामा एक दूसरे को इतना नापसंद करते हैं कि वार्ता से ही कतराते हैं. ट्रंप ने कहा- “मुझे लगता है कि मेरे और पुतिन के बीच रिश्ते बेहतर रहेंगे और जो समस्याएं अभी अमरीका को हो रही हैं वो नहीं होंगी.”

    7. ट्रंप चाहते हैं कि कई मुद्दों पर चीन को सबक सिखाए जाने की ज़रूरत है ताक़ि अमरीका के साथ व्यापार को उचित और निष्पक्ष बनाया जा सके. उन्होंने कहा कि अगर वो राष्ट्रपति चुने जाते हैं तो वो चीन को अपनी मुद्रा की क़ीमत घटाने से रोकेंगे और उसे अपने पर्यावरण और मज़दूरी स्तर को सुधारने के लिए मजबूर करेंगे.

    8. ट्रंप का कहना है कि जलवायु परिवर्तन सिर्फ़ मौसम का मामला है. ट्रंप मानते हैं कि साफ़ हवा और साफ़ पानी महत्वपूर्ण है लेकिन वे जलवायु परिवर्तन को फ़र्ज़ी मानते हैं और कहते हैं कि उद्योगों पर पर्यावरण संबंधी प्रतिबंध उन्हें वैश्विक बाज़ार में कम प्रतियोगी बनाते हैं.

    9. दुनिया बेहतर होती यदि सद्दाम हुसैन और मोहम्मद गद्दाफ़ी ज़िंदा होते. ट्रंप ने सीएनएन से कहा था कि लीबिया और इराक़ में हालात दोनों शासकों के समय से कहीं ज़्यादा ख़राब हैं.

    10. ट्रंप का दावा है कि वह बहुत ही अच्छे इंसान हैं. हाल में रिलीज़ हुई अपनी किताब क्रिप्ल्ड अमेरिका में ट्रंप लिखते हैं, “मुझ पर विश्वास करो, मैं बहुत ही अच्छा इंसान हूँ और मुझे एक अच्छा इंसान होने पर गर्व है, लेकिन मैं अपने देश को फिर से महान बनाने के लोकर प्रतिबद्ध और जोशीला भी हूँ.”

ट्रंप की महिला विरोधी छवि
डोनाल्‍ड ट्रंप पर लगे हैं पत्नी के साथ दुष्कर्म जैसे आरोप– चुनाव में गड़े मुर्दे उखाड़ने की पुरानी परंपरा रही है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव का तो इतिहास ही रहा है कि यहां हर दावेदार की पुरानी जिंदगी के सारे गुनाह, सारे आरोप, सारे नाजायज रिश्तों की पड़ताल की जाती है। विरोधी इसके लिए पैसा खर्च करते हैं। अबकी बार राष्ट्रपति उम्मीदवारी के सबसे मजबूत रिपब्लिकन दावेदार डोनाल्ड ट्रंप के अतीत की कब्रें खुदनी शुरू हो गई हैं। वो भी फरवरी में होने वाले प्राइमरी चुनावों से ठीक पहले। ब्रिटेन के चैनल4 पर 26 जनवरी से “द मैड वर्ल्ड ऑफ डोनाल्ड” का प्रसारण शुरू हुआ है। इस डॉक्यूमेंटरी में अरबपति कारोबारी ट्रंप के अतीत के कई दागदार पन्ने दिखाए गए हैं। मिरर के अनुसार 27 साल पहले ट्रंप पर उनकी पत्नी ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। इतना ही नहीं वे सनकी और सिरफिरे भी हैं। यह फिल्म 1993 में आई ट्रंप की जीवनी “लॉस्ट टाइकूल : द मैनी लाइव्स ऑफ डोनाल्ड जे ट्रंप” पर आधारित है। हैरी हर्ट तृतीय ने यह किताब लिखी थी। इसके लिए हर्ट ने 1977-92 तक ट्रंप की पत्नी रहीं इवाना का साक्षात्कार किया था। उल्लेखनीय है कि 69 साल के ट्रंप ने तीन शादियां की है और उनके पांच बच्चे हैं। इनमें से तीन उनके और इवाना के हैं।

  • 1989 की घटना- डॉक्यूमेंटरी के मुताबिक 1989 में ट्रंप ने गंजेपन को दूर करने के लिए सर्जरी करवाई थी। सर्जरी के दौरान हुई असहनीय पीड़ा का गुस्सा उन्होंने अपनी बीवी इवाना पर उतारा, क्योंकि सर्जन उनकी पत्नी का भी डॉक्टर था। पहले उन्होंने इवाना पर हमले किए फिर उसके कपड़े फाड़ डाले। पति का ऐसा हिंसक रूप देख इवाना बेहद डर गई और घर के ऊपर भागी। वो बंद दरवाजे के पीछे सारी रात रोती रहीं।
  • लेखक को बताया झूठा- ट्रंप ने इन आरोपों को गलत बताते हुए 1993 में हर्ट को मूर्ख और झूठा बताया था। डेली बीस्ट ने जब इस खबर को छापने की तैयारी की तो उसे धमकी दी गई। ट्रंप के चुनाव अभियान समिति ने एक बार फिर इस मामले पर सफाई देते हुए इवाना का बयान जारी किया है। इसमें इवाना ने कहा है कि वे और ट्रंप अब भी अच्छे दोस्त हैं और यह आरोप पूरी तरह से सच नहीं है।

सेक्स स्केंडल

Image result for jessica drake trump
2006 में वयस्क फिल्मों की स्टार जेसिका ड्रेक के साथ ट्रंप
Jessica Drake and attorney Gloria Allred with a picture of Drake and Trump
अपनी एटॉर्नी ग्लोरिया के साथ जेसिका ड्रेक (सीधे हाथ की तरफ), ट्रंप पर आरोप लगाते हुए
वयस्क फिल्मों की अभिनेत्री ने ट्रंप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप– अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में एक माह से भी कम समय बचा है और महिलाओं के यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर पहले से ही कमजोर स्थिति में चल रहे रिपब्लिकन उम्मीदवार के प्रचार अभियान पर वयस्क फिल्मों की स्टार जेसिका ड्रेक के इन आरोपों के बाद और अधिक असर पड़ने की आशंका है। लॉस एंजिलिस में एक संवाददाता सम्मेलन में ड्रेक ने कहा कि वह करीब दस साल पहले कैलिफोर्निया के लेक ताहो में ट्रंप से मिली थीं। उसे होटल में ट्रंप के कमरे में बुलाया गया जिसके बाद वह अपनी कुछ मित्रों के साथ वहां गई। 42 वर्षीय ड्रेक का आरोप है कि ट्रंप ने उसे और उसकी दो अन्य मित्रों को पकड़ लिया और उनकी अनुमति के बिना उनका चुंबन लिया। उन्होंने आरोप लगाया कि बाद में एक अज्ञात व्यक्ति ने ट्रंप की ओर से उसे फोन कर फिर से कमरे में आने को कहा लेकिन इस बार उसे अकेले बुलाया लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया। अभिनेत्री के अनुसार, उसे कहा गया कि वह ट्रंप के कमरे में आए और रात को उनके साथ भोजन करें। उसे पार्टी में भी बुलाया गया लेकिन उसने मना कर दिया। ड्रेक ने कहा, इसके बाद ट्रंप ने खुद मुझसे पूछा तुम क्या चाहती हो। कितनी रकम। ट्रंप ने 10,000 डॉलर की पेशकश की। ट्रंप के साथ अटॉर्नी ग्लोरिया ऑलरेड भी थीं।
 
कई महिलाएं लगा चुकी हैं आरोप
12345.jpg
डोनाल्ड ट्रंप महिलाओं के प्रति कर चुके हैं अशलील टिप्पणियां
डोनाल्ड की गंदी बात 1# मेरी बेटी ‘ए पीस ऑफ ए…’
2004 में रेडियो के लिए हावर्ड स्टर्न को दिए गए इंटरव्यू में डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी बेटी के बारे में अश्लील बात कही थी। उस समय डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप 22 साल की थी। डोनाल्ड ट्रंप ने स्टर्न से बातचीत में बेटी की शारीरिक बनावट पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि वह ‘पीस ऑफ ए…’ है। ट्रंप ने यह भी कहा कि जब वह 14 साल के थे तब किसी कम उम्र की हॉट लड़की के लिए अपनी वर्जिनिटी खोने में कोताही नहीं करते थे।
डोनाल्ड की गंदी बात 2# हिलेरी क्लिंटन पर की अश्लील टिप्पणी
अगर हिलेरी क्लिंटन अपने पति को संतुष्ट नहीं कर पातीं तो वह अमेरिका को संतुष्ट करने के बारे में कैसे सोच सकती हैं? (ट्रंप ने अप्रैल, 2015 में यह ट्वीट किया था। बाद में उन्होंने इसे डिलीट कर दिया था।)डोनाल्ड की गंदी बात 3# खूबसूरत और जवान महिलाएं मिलती रहें बस
महिलाओं पर की गई अभद्र टिप्पणियों के चलते डोनाल्ड ट्रंप मीडिया में बदनाम रहे हैं। उन्होंने मीडिया में अपनी छवि को लेकर प्रतिक्रिया देते समय भी अश्लील बात कही थी। 1991 में उन्होंने एक मैगजीन को इंटरव्यू में कहा कि मीडिया में उनके बारे में क्या छप रहा है यह तब तक कोई मायने नहीं रखता जब तक उनको जवान और खूबसूरत औरतों के साथ सोने का मौका मिल रहा है।

डोनाल्ड की गंदी बात 4# बच्चे को दूध पिलाने वाली मां पर अभद्र टिप्पणी
डोनाल्ड ट्रंप ने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली मां के प्रति घृणा का सरेआम प्रदर्शन किया था। एक महिला वकील ने जब बच्चे को दूध पिलाने के लिए ब्रेक मांगा था तब उन्होंने उनको ‘घृणित औरत’ कहा था।

डोनाल्ड की गंदी बात 5# महिला पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार
डोनाल्ड ट्रंप महिला पत्रकारों पर भी अभद्र टिप्पणियों के मामले में बदनाम रहे हैं। एक बार न्यूयार्क टाइम्स में गेल कॉलिंस ने डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ एक लेख लिखा। इस लेख से खफा होकर ट्रंप ने उस आर्टिकल की एक कॉपी गेल कॉलिंस के पास भिजवाई। इस आर्टिकल कॉपी में ट्रंप ने गेल कॉलिंस की फोटो को कलम से घेरा था और उस पर लिखा था, ‘ द फेस ऑफ ए डॉग।’

डोनाल्ड की गंदी बात 6# महिला एंकर को कहा बिंबो
अमेरिकी पत्रकार मेगन केली, डोनाल्ड ट्रंप की गंदी टिप्पणियों की शिकार हुईं। अमेरिका के राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी की तरफ से उम्मीदवारी कर रहे डोनाल्ड ट्रंप के पहले डिबेट की एंकरिंग मेगन केली ने की थी। डिबेट के बाद ट्रंप ने ट्विटर पर मेगन केली के बारे में अभद्र बातें कहीं। उन्होंने मेगन को बिंबो कहा। ट्रंप ने लिखा कि मेगन का पीरियड चल रहा था इस वजह से उन्होंने उनसे काफी कड़े सवाल किए। उन्होंने लिखा, ‘मेगन की आंखों से खून निकल रहा है। उनके बदन में हर जगह से खून निकल रहा था।’ उन्होंने मेगन को क्रेजी और औसत दर्जे की एंकर कहा।

डोनाल्ड की गंदी बात 7# ‘फियोरिना के चेहरे को देखकर कौन वोट देगा’
डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी ही पार्टी की लीडर कार्ली फियोरिना पर अभद्र टिप्पणी कर उनका अपमान किया। 2015 के सितंबर में रिपब्लिकन पार्टी की प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार फियोरिना के बारे में ट्रंप ने कहा, ‘उनके चेहरे को देखो। उनको देखकर कौन वोट देगा? क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि ऐसा चेहरा आपका अगला राष्ट्रपति होगा। मेरा मतलब है कि वह महिला हैं और मुझे उनके बारे में भद्दी बात नहीं करनी चाहिए लेकिन सच में क्या आप उनको लेकर सीरियस हैं?’

डोनाल्ड की गंदी बात 8# मिस यूनिवर्स को कहा मिस पिग्गी
पिछले महीने सितंबर में पूर्व मिस यूनिवर्स और वेनेजुएला की एक्ट्रेस एलिसिया माचादो ने दावा किया कि डोनाल्ड ट्रंप ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया। एलिसिया माचादो ने कहा कि ट्रंप ने उनको मिस पिग्गी कहा। इसके बाद माफी मांगने के बजाय ट्रंप ने जवाब में फिर उनके बारे में कहा कि एलिसिया माचादो काफी मोटी हो गई हैं और यह हम सबके लिए एक समस्या हैं।

डोनाल्ड की गंदी बात 9# गजाला खान पर की नस्ली टिप्पणी
जिन्होंने भी डोनाल्ड ट्रंप की कोई आलोचना की, उनको अपमानित करने में वे पीछे नहीं रहे। इराक युद्ध में मारे गए हुमायूं खान के पिता, डेमोक्रेट नेशनल कंवेंशन के दौरान डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना कर रहे थे। हुमायूं खान की मां अपने पति के बगल में खड़ी थीं। आलोचना सुनकर डोनाल्ड ट्रंप ने हुमायूं खान की मां को निशाना बनाया। उन्होंने हुमायूं खान के पिता को जवाब देते हुए उनकी पत्नी गजाला की तरफ इशारा करके कहा, ‘देखो, इनकी पत्नी को देखो। वह वहां खड़ी है। उसके पास कहने को कुछ भी नहीं है। लगता है उसे बोलने की इजाजत नहीं है। आप भी कुछ कहो।’

डोनाल्ड की गंदी बात 10# मेक्सिकन लोगों को कहा रेपिस्ट
डोनाल्ड ट्रंप ने सिर्फ महिलाओं के बारे में ही गंदी बातें नहीं की हैं। उन्होंने पिछले साल मेक्सिकन लोगों को रेपिस्ट कह दिया। ट्रंप ने दिव्यांग पत्रकार का मजाक उड़ाया था और अमेरिका में आने वाले मुस्लिमों पर बैन लगाने की मांग की थी।

जानकारों की ट्रम्प के बारे में क्या राय है
ट्रंप और उनके परिवार पर दो किताबें लिखने वालीं ग्वेंडा ब्लेयर का क्या कहना है- बहुत सारी परिस्थितियों में ट्रंप का तय राजनीतिक मत न होना फायदेमंद हो सकता है, लेकिन उनकी जीवनी लेखकों का मानना है कि यह चरित्र के अभाव को भी दिखाता है. ब्लेयर कहती हैं, “उनकी विचारधारा या किसी प्रकार की नैतिकता की बाधा नहीं है, इसलिए वे कुछ ऐसी चीजों को हासिल कर सकते हैं जो असंभव लगती हैं, लेकिन उसमें नैतिक फैसले और आचार संबंधी कमी है.” यदि राष्ट्रपति का चुनाव सर्फ मतदाताओं के असंतोष के आधार पर हो तो ट्रंप को जीतने में कोई दिक्कत नहीं होगी. लेकिन भले ही बहुमत वोटर उनके डेमोक्रैटिक प्रतिद्वंद्वी हिलेरी क्लिंटन को प्रतिकूल तरीके से देखते हैं, लेकिन ट्रंप को सकारात्मक रूप से अव्यवस्थित माना जाता है.

ट्रंप की जीवनी लिखने वाले लेखक टिमोथी ओब्रायन का क्या कहना है- ओब्रायन कहते हैं कि ट्रंप की असुरक्षा की भावना का एक मानक वे चीजें हैं जिनकी वे शेखी बघेरते हैं. “यदि वे अमीर होने के बारे में सुरक्षित होते तो बार बार यह कहने की जरूरत नहीं होती कि उनके पास कितना धन है और वे इसे बढ़ा चढ़ा कर बताते हैं. यदि वे महिलाओं में अपनी अपील को लेकर सुरक्षित होते तो उन्हें ये कहने की जरूरत नहीं होती कि वे कितनी औरतों के साथ सोए हैं या सोने की कोशिश की है.” हालांकि ट्रंप की विचित्रता उन्हें मनोरंजक और दिलचस्प हस्ती बनाती है लेकिन जीवनी लेखकों की राय में दुनिया के बारे में उनकी अज्ञानता उन्हें व्हाइट हाउस के लिए अयोग्य बनाती है. ब्लेयर कहती हैं, “ट्रंप खतरनाक इंसान हैं. इसलिए कि वे जानबूझकर अंजान हैं और अत्यंत हठी हैं.”

ट्रंप में अब तक तीन बार राष्ट्रपति चुनाव लड़ने की मंशा जाहिर की थी, लेकिन मामले के गंभीर होते ही पीछे हट गए थे. ओब्रायन कहते हैं कि वे शायद ही कभी लंबी योजना बनाते हैं. उनका मानना है कि रिपब्लिकन उम्मीदवार कारोबारी करियर के मंद करने के बाद राजनीति में कूदे हैं. उनका विकास रियल एस्टेट डेवलपर से टीवी सेलेब्रिटी और फिर ऐसे इंसान के रूप में हुआ है जो अंडरवेयर से लेकर वोदका तक हर चीज के साथ अपना नाम जोड़ता है.

ट्रंप के जीवनी लेखकों को शक है कि उनकी कोई गहरी राजनीतिक प्रतिबद्धता है. इस विचार को इस बात से भी बल मिलता है कि रिपब्लिकन उम्मीदवार ने अतीत में स्वतंत्र और वामपंथी विचारों का भी समर्थन किया है. इस समय उन्होंने कंजरवेटिव पार्टी का सहारा इसलिए लिया है कि उन्होंने वहां संभावना देखी, हालांकि उनका बराक ओबामा से भी वैर दिखता है. ब्लेयर बताती हैं कि 2011 में वे उस अभियान के साथ जुड़े जिसने ओबामा के अमेरिका में नहीं जन्मे होने का मुद्दा उठाया था. “यह वही समय था जब वे अपने कुछ हद तक उदारवादी राजनीतिक रवैये से अलग हटे. तब उन्होंने दक्षिणपंथ की ओर रुख किया.”

दूसरे नेताओं से कितने अलग हैं ट्रंप… देखिए इन वीडियो में…

donald-trumppresident.jpg

Advertisements

About drsandeepkohli

तमाम लोगों को अपनी-अपनी मंजीलें मिली.. कमबख्त दिल हमारा ही हैं जो अब भी सफ़र में हैं… पत्रकार बनने की कोशिश, कभी लगा सफ़ल हुआ तो कभी लगा …..??? चौदह साल हो गए पत्रकार बनने की कोशिश करते। देश के सर्वोतम संस्थान (आईआईएमसी) से 2003 में पत्रकारिता की। इस क्षेत्र में कूदने से पहले शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ा था, अंतरराष्ट्रीय राजनीति में रिसर्च कर रहा था। साथ ही भारतीय सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी में रात-दिन जुटा रहता था। लगा एक दिन सफ़ल हो जाऊंगा। तभी भारतीय जनसंचार संस्थान की प्रारंभिक परिक्षा में उर्तीण हो गया। बस यहीं से सब कुछ बदल गया। दिल्ली में रहता हूं। यहीं पला बड़ा, यहीं घर बसा। और यहां के बड़े मीडिया संस्थान में पत्रकारिता जैसा कुछ करने की कोशिश कर रहा हूं। इतने सालों से इस क्षेत्र में टिके रहने का एक बड़ा और अहम कारण है कि पहले ही साल मुझे मेरे वरिष्ठों ने समझा दिया गया था कि हलवाई बनो। जैसा मालिक कहे वैसा पकवान बनाओ। सो वैसा ही बना रहा हूं, कभी मीठा तो कभी खट्टा तो कभी नमकीन, इसमें कभी-कभी कड़वापन भी आ जाता है। सफ़र ज्यादा लम्बा नहीं, इन चौदह सालों के दरम्यां कई न्यूज़ चैनलों (जी न्यूज़, इंडिया टीवी, एनडीटीवी, आजतक, इंडिया न्यूज़, न्यूज़ एक्सप्रेस, न्यूज़24) से गुजरना हुआ। सभी को गहराई से देखने और परखने का मौका मिला। कई अनुभव अच्छे रहे तो कई कड़वे। पत्रकारों को ‘क़लम का सिपाही’ कहा जाता है, क़लम का पत्रकार तो नहीं बन पाया, हां ‘कीबोर्ड का पत्रकार’ जरूर बन गया। अब इस कंप्यूटर युग में कीबोर्ड का पत्रकार कहलाने से गुरेज़ नही। ख़बरों की लत ऐसी कि छोड़ना मुश्किल। अब मुश्किल भी क्यों न हो? सारा दिन तो ख़बरों में ही निकलता है। इसके अलावा अगर कुछ पसंद है तो अच्छे दोस्त बनना उनके साथ खाना, पीना, और मुंह की खुजली दूर करना (बुद्धिजीवियों की भाषा में विचार-विमर्श)। पर समस्या यह है कि हिन्दुस्तान में मुंह की खुजली दूर करने वाले (ज्यादा खुजली हो जाती है तो लिखना शुरू कर देते हैं… साथ-साथ उंगली भी करते हैं) तो प्रचुर मात्रा में मिल जाएंगे लेकिन दोस्त बहुत मुश्किल से मिलते हैं। ब्लॉगिंग का शौक कोई नया नहीं है बीच-बीच में भूत चढ़ जाता है। वैसे भी ब्लॉगिंग कम और दोस्तों को रिसर्च उपलब्ध कराने में मजा आता है। रिसर्च अलग-अलग अखबारों, विभिन्न वेवसाइटों और ब्लॉग से लिया होता है। किसी भी मित्र को जरूरत हो किसी तरह की रिसर्च की… तो जरूर संपर्क कर सकते हैं।
This entry was posted in News, Uncategorized and tagged , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s