इतिहास से झरोखे से… राष्ट्रपति भवन में शपथ लेते प्रधानमंत्रियों की तस्वीरें

ज़ाद भारत के इतिहास में ये तीसरी बार होगा जब प्रधानमंत्री का शपथग्रहण समारोह राष्ट्रपति के प्रांगण यानी फोरकोर्ट में होगा… आमतौर पर शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रपति भवन के अशोका हाल में होता है, लेकिन इतिहास में दो मौके ही ऐसे आए हैं, जिसमें शपथ प्रांगण मे हुई…1990 में चंद्रशेखर और 1998 में अटल बिहारी वाजयेपी का शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रपति भवन के इसी फोरकोर्ट में हुआ है… अब मोदी इस इतिहास के अगले अध्याय हैं.

Pandit Jawaharlal Nehru- Lord Mountbatten swears in Pandit Jawaharlal Nehru as the first Prime Minister of free India at the ceremony held at 8.30 AM on August 15, 1947, in the Durbar Hall of the Viceroy’s House (Rashtrapati Bhawan) in New Delhi

Image

Pandit Jawaharlal Nehru- President of India Dr Rajendra Prasad (right in white cap) administering the oath of office as Prime Minister of India to Pandit Jawaharlal Nehru (left in white cap) at Rashtrapati Bhawan in New Delhi on January 26, 1950.

Image

Pandit Jawaharlal Nehru (left) taking the oath of office administered in Hindi as Prime Minister of India (3rd term) by the President Dr Rajendra Prasad at Rashtrapati Bhavan in New Delhi on April 10, 1962.

Image

Gulzarilal Nanda- was an Acting- Prime Minister of India twice for thirteen days each: the first time after the death of Prime Minister Jawaharlal Nehru in 27 May 1964 to 9 June 1964

gulja-2

Lal Bahadur Shastri- President of India Radhakrishnan (wearing white turban) is administrating oath for the office of Prime Minister to Lal Bahadur Shastri (standing centre), who becomes the second Prime Minister of India after the unfortunate demise of Prime Minister Jawaharlal Nehru, at Rashtrapati Bhawan, in New Delhi on June 9, 1964.

Image

Gulzarilal Nanda- second time  Acting- Prime Minister of India after the death of Prime Minister Lal Bahadur Shastri in 11 Jan 1966 to 24 Jan 1966

gulja-1

Indira Gandhi is sworn in as Prime Minister by President S Radhakrishnan at Rashtrapati Bhavan in New Delhi on January 24, 1966. She also holds the portfolios of atomic energy and home.

Image

 Morarji Desai– Swearing-in ceremony of Morarji Desai in 24 March1977, India’s first non congress prime minister

 Image

Charan Singh: President of India Neelam Sanjiva Reddy administering the oath of office and secrecy to Charan Singh as Prime Minister, at Rashtrapati Bhawan in New Delhi on 28 July 1979

 Image

Indira Gandhi: Congress once again swept to power in 14 January 1980 under Indira Gandhi

Image

Rajiv Gandhi: President of India Giani Zail Singh administering the oath of office and secrecy to Rajiv Gandhi as Prime Minister of India, after the assassination of Prime Minister Indira Gandhi, at Rashtrapati Bhawan, New Delhi on October 31, 1984.

Image

Vishwanath Pratap Singh- being sworn in as India’s seventh prime minister on December 2, 1989, by then President Ramaswamy Venkataraman.

Image

Chandra Shekhar- President of India R Venkataraman (left) with the Prime Minister Chandra Shekhar (centre) and Deputy Prime Minister Devi Lal (right), after the swearing-in ceremony, in New Delhi on November 10, 1990.

 Image

P V Narasimha Rao- President of India R Venkataraman (left) administering the oath of office to P V Narasimha Rao (centre) as Prime Minister of India in New Delhi on June 21, 1991.

Image

Atal Bihari Vajpayee- being sworn in as the tenth prime minister on May 16, 1996, by then President Shankar Dayal Sharma.

Image

H. D. Deve Gowda- Swearing-in ceremony of H. D. Deve Gowda  1 June 1996

Image

IK Gujral- sworn-in as Prime Minister by the then President Shankar Dayal Sharma in New Delhi on April 21, 1997.

Image

Atal Bihari Vajpayee- Swearing-in ceremony of Atal Bihari Vajpayee in 19 March 1998

Image

Dr. Manmohan Singh- The President Dr. A.P. J. Abdul Kalam administering the oath of office of the Prime Minister to Dr. Manmohan Singh at a Swearing-in Ceremony in New Delhi on May 22, 2004

Image

Dr. Manmohan Singh- The President, Smt. Pratibha Devisingh Patil administering the oath of office of the Prime Minister to Dr. Manmohan Singh at a Swearing-in Ceremony, at Rashtrapati Bhavan, in New Delhi on May 22, 2009.

Image

Narendra Modi-President, Shri Pranab Mukherjee administering the oath of office of the Prime Minister to Shri Narendra Modi, at a Swearing-in Ceremony, at Rashtrapati Bhavan, in New Delhi on May 26, 2014.

modi

 

Advertisements

About drsandeepkohli

तमाम लोगों को अपनी-अपनी मंजीलें मिली.. कमबख्त दिल हमारा ही हैं जो अब भी सफ़र में हैं… पत्रकार बनने की कोशिश, कभी लगा सफ़ल हुआ तो कभी लगा …..??? 13 साल हो गए पत्रकार बनने की कोशिश करते। देश के सर्वोतम संस्थान (आईआईएमसी) से 2003 में पत्रकारिता की। इस क्षेत्र में कूदने से पहले शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ा था, अंतरराष्ट्रीय राजनीति में रिसर्च कर रहा था। साथ ही भारतीय सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी में रात-दिन जुटा रहता था। लगा एक दिन सफ़ल हो जाऊंगा। तभी भारतीय जनसंचार संस्थान की प्रारंभिक परिक्षा में उर्तीण हो गया। बस यहीं से सब कुछ बदल गया। दिल्ली में रहता हूं। यहीं पला बड़ा, यहीं घर बसा। और यहां के बड़े मीडिया संस्थान में पत्रकारिता जैसा कुछ करने की कोशिश कर रहा हूं। इतने सालों से इस क्षेत्र में टिके रहने का एक बड़ा और अहम कारण है कि पहले ही साल मुझे मेरे वरिष्ठों ने समझा दिया गया था कि हलवाई बनो। जैसा मालिक कहे वैसा पकवान बनाओ। सो वैसा ही बना रहा हूं, कभी मीठा तो कभी खट्टा तो कभी नमकीन, इसमें कभी-कभी कड़वापन भी आ जाता है। सफ़र ज्यादा लम्बा नहीं, इन ग्यारह सालों के दरम्यां कई न्यूज़ चैनलों (इंडिया टीवी, एनडीटीवी, आजतक, इंडिया न्यूज़, न्यूज़ एक्सप्रेस, न्यूज़24) से गुजरना हुआ। सभी को गहराई से देखने और परखने का मौका मिला। कई अनुभव अच्छे रहे तो कई कड़वे। पत्रकारों को ‘क़लम का सिपाही’ कहा जाता है, क़लम का पत्रकार तो नहीं बन पाया, हां ‘कीबोर्ड का पत्रकार’ जरूर बन गया। अब इस कंप्यूटर युग में कीबोर्ड का पत्रकार कहलाने से गुरेज़ नही। ख़बरों की लत ऐसी कि छोड़ना मुश्किल। अब मुश्किल भी क्यों न हो? सारा दिन तो ख़बरों में ही निकलता है। इसके अलावा अगर कुछ पसंद है तो अच्छे दोस्त बनना उनके साथ खाना, पीना, और मुंह की खुजली दूर करना (बुद्धिजीवियों की भाषा में विचार-विमर्श)। पर समस्या यह है कि हिन्दुस्तान में मुंह की खुजली दूर करने वाले (ज्यादा खुजली हो जाती है तो लिखना शुरू कर देते हैं… साथ-साथ उंगली भी करते हैं) तो प्रचुर मात्रा में मिल जाएंगे लेकिन दोस्त बहुत मुश्किल से मिलते हैं। ब्लॉगिंग का शौक कोई नया नहीं है बीच-बीच में भूत चढ़ जाता है। वैसे भी ब्लॉगिंग कम और दोस्तों को रिसर्च उपलब्ध कराने में मजा आता है। रिसर्च अलग-अलग अखबारों, विभिन्न वेवसाइटों और ब्लॉग से लिया होता है। किसी भी मित्र को जरूरत हो किसी तरह की रिसर्च की… तो जरूर संपर्क कर सकते हैं।
This entry was posted in News, Personality, Uncategorized and tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s