यूपीए के दूसरे कार्यकाल (2009 से अब तक) में पेट्रोल और डीजल के दाम… कहां से कहां…

Prices of non-branded PETROL in metro-cities (Rs./Litre)

Month Delhi Kolkata Mumbai Chennai
March 1, 2013 70.46 77.99 77.29 73.57
February 15, 2013 69.06 76.59 75.89 72.17
January 18, 2013 67.26 74.72 74.00 70.26
January 16, 2013 67.56 75.03 74.32 70.58
November 16, 2012 67.24 74.55 73.53 70.57
October 27, 2012 68.19 75.74 74.73 71.77
October 09, 2012 67.90 75.44 74.43 71.48
August 01, 2012 68.46 76.14 75.14 72.19
July 25, 2012 68.48 76.13 75.14 72.19
July 24, 2012 68.48 73.61 74.23 73.16
June 29, 2012 67.78 72.74 73.35 72.27
June 18, 2012 70.24 75.81 76.45 75.4
June 03, 2012 71.16 75.81 76.45 75.4
May 24, 2012 73.18 77.88 78.57 77.53
December 01, 2011 65.64 70.03 70.66 69.55
November 16, 2011 66.42 70.84 71.47 70.38
November 04, 2011 68.64 73.15 73.81 72.73
September 16, 2011 66.84 71.28 71.91 70.82
July 01, 2011 63.7 68.01 68.62 67.5
May 15, 2011 63.37 67.71 68.33 67.22
March 02, 2011 58.37 62.5 63.08 61.93
January 16, 2011 58.37 62.5 63.08 63.36
December 16, 2010 55.87 59.9 60.46 60.65
November 09, 2010 52.91 56.81 57.35 57.44
November 02, 2010 52.59 56.47 57.01 57.09
October 17, 2010 52.59 56.44 57.01 57.09
September 21, 2010 51.83 55.69 56.25 56.31
September 08, 2010 51.56 55.4 55.97 56.02
June 26, 2010 51.43 55.32 55.88 55.92
April 01, 2010 47.93 51.67 52.2 52.13
February 27, 2010 47.43 51.15 51.68 51.59
July 02, 2009 44.72 48.25 48.76 48.58

Prices of non-branded DIESEL across state capitals (Rs./Litre)

Month Delhi Kolkata Mumbai Chennai
February 16, 2013 48.16 52.04 54.26 51.23
January 16, 2013 47.65 51.51 53.14 50.68
January 01, 2013 47.15 50.98 53.14 50.13
October 27, 2012 47.15 50.78 52.63 50.16
September 14, 2012 46.95 50.61 52.45 49.98
August 01, 2012 41.32 44.76 46.25 43.91
July 25, 2012 41.29 44.66 46.17 43.83
June 18, 2012 41.29 43.74 45.28 43.95
November 01, 2011 40.91 43.74 45.28 43.95
July 08, 2011 40.91 43.74 45.28 43.95
July 01, 2011 40.91 43.74 45.99 43.95
June 25, 2011 41.12 43.57 45.84 43.8
November 02, 2010 37.75 40.06 42.06 40.16
September 08, 2010 37.75 40.02 42.06 40.16
June 26, 2010 40.1 39.94 41.98 40.07
April 01, 2010 38.1 37.99 39.88 38.05
February 27, 2010 35.47 37.73 39.6 37.78
July 02, 2009 32.87 35.03 36.7 34.98
Advertisements

About drsandeepkohli

तमाम लोगों को अपनी-अपनी मंजीलें मिली.. कमबख्त दिल हमारा ही हैं जो अब भी सफ़र में हैं… पत्रकार बनने की कोशिश, कभी लगा सफ़ल हुआ तो कभी लगा …..??? 13 साल हो गए पत्रकार बनने की कोशिश करते। देश के सर्वोतम संस्थान (आईआईएमसी) से 2003 में पत्रकारिता की। इस क्षेत्र में कूदने से पहले शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ा था, अंतरराष्ट्रीय राजनीति में रिसर्च कर रहा था। साथ ही भारतीय सिविल सेवा परिक्षा की तैयारी में रात-दिन जुटा रहता था। लगा एक दिन सफ़ल हो जाऊंगा। तभी भारतीय जनसंचार संस्थान की प्रारंभिक परिक्षा में उर्तीण हो गया। बस यहीं से सब कुछ बदल गया। दिल्ली में रहता हूं। यहीं पला बड़ा, यहीं घर बसा। और यहां के बड़े मीडिया संस्थान में पत्रकारिता जैसा कुछ करने की कोशिश कर रहा हूं। इतने सालों से इस क्षेत्र में टिके रहने का एक बड़ा और अहम कारण है कि पहले ही साल मुझे मेरे वरिष्ठों ने समझा दिया गया था कि हलवाई बनो। जैसा मालिक कहे वैसा पकवान बनाओ। सो वैसा ही बना रहा हूं, कभी मीठा तो कभी खट्टा तो कभी नमकीन, इसमें कभी-कभी कड़वापन भी आ जाता है। सफ़र ज्यादा लम्बा नहीं, इन ग्यारह सालों के दरम्यां कई न्यूज़ चैनलों (इंडिया टीवी, एनडीटीवी, आजतक, इंडिया न्यूज़, न्यूज़ एक्सप्रेस, न्यूज़24) से गुजरना हुआ। सभी को गहराई से देखने और परखने का मौका मिला। कई अनुभव अच्छे रहे तो कई कड़वे। पत्रकारों को ‘क़लम का सिपाही’ कहा जाता है, क़लम का पत्रकार तो नहीं बन पाया, हां ‘कीबोर्ड का पत्रकार’ जरूर बन गया। अब इस कंप्यूटर युग में कीबोर्ड का पत्रकार कहलाने से गुरेज़ नही। ख़बरों की लत ऐसी कि छोड़ना मुश्किल। अब मुश्किल भी क्यों न हो? सारा दिन तो ख़बरों में ही निकलता है। इसके अलावा अगर कुछ पसंद है तो अच्छे दोस्त बनना उनके साथ खाना, पीना, और मुंह की खुजली दूर करना (बुद्धिजीवियों की भाषा में विचार-विमर्श)। पर समस्या यह है कि हिन्दुस्तान में मुंह की खुजली दूर करने वाले (ज्यादा खुजली हो जाती है तो लिखना शुरू कर देते हैं… साथ-साथ उंगली भी करते हैं) तो प्रचुर मात्रा में मिल जाएंगे लेकिन दोस्त बहुत मुश्किल से मिलते हैं। ब्लॉगिंग का शौक कोई नया नहीं है बीच-बीच में भूत चढ़ जाता है। वैसे भी ब्लॉगिंग कम और दोस्तों को रिसर्च उपलब्ध कराने में मजा आता है। रिसर्च अलग-अलग अखबारों, विभिन्न वेवसाइटों और ब्लॉग से लिया होता है। किसी भी मित्र को जरूरत हो किसी तरह की रिसर्च की… तो जरूर संपर्क कर सकते हैं।
This entry was posted in News. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s